गुरुवार, 1 नवंबर 2012

भारती के हाइकू

 उनसे  मिले
मन हुआ द्रवित
नयन झरे


न झकझोर
प्रीत की वह डोर
मन टूटेगा


वे आ तो गए
हुए न नजरबंद
चछु -कोर में


मिली नजर
तन-मन मगन
मिला गगन


दिल के टुकड़े
यादों  संग जकड़ें
चलें  अकेलें

2 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाओं के साथ आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (03-11-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

Alpana Verma ने कहा…

गहन भाव लिए हैं सभी हाईकु