बुधवार, 18 जनवरी 2012

गरीब लडकी

-गरीब लड़की-
सामाजिक दहलीज पर
अपने घर के कोने की तरह
रह रह कर ठिठक जाती है
एक गरीब की लड़की
उसी समाज में जहाँ
कम एवं छोटे वस्त्र पहनना
नित्य नया फैशन माना जाता है
वहीँ गरीब की लड़की
अपने फटे वस्त्रों में
अपनी लाज छुपाने के लिए
बार बार सिमट जाती है।
उसे महसूस होत है
उन निगाहों की चुभन
जो बेहयाई से झांकती हैं
सूक्ष्म छिद्रों से उसका तन
और वह पी जाती है पीड़ा
मसोसकर अपना मन

2 टिप्‍पणियां:

कविता रावत ने कहा…

sach gareebi se badhkar koi abhishap nahi...
bahut badiya saarthak prastuti ke liye aabhar!..

Siya Ram Bharti ने कहा…

Blog per aur rachnay bhi dekhen.